SUMMARY- Real Business

  • Click here => for INDEX of this section
  • RENEW HUMAN           RENEW INDIA                RENEW WORLD

     भारत सरकार के साथ लेकिन सरकार की सोच से हमेशा आगे

    आध्यात्मिक एवं दार्शनिक विरासत के आधार पर एक भारत-श्रेष्ठ भारत निर्माण,

     

    पूर्ण मानव निर्माण व भारत को जगत गुरू बनाने की योजना है - पुनर्निर्माण

    कर्म के तीन कुल तीन ही मार्ग हैं-
    1. प्रमुखता से शरीर के प्रयोग द्वारा
    2. प्रमुखता से संसाधन/धन के प्रयोग द्वारा
    3. प्रमुखता से मानसिक/ज्ञान के प्रयोग द्वारा

    विश्वशास्त्र - द नॅालेज अॅाफ फाइनल नॅालेज

    कर्म के प्रमुखता से मानसिक/ज्ञान के प्रयोग का परिणाम है।

    राष्ट्र निर्माण का व्यापार - पुनर्निर्माण 

    द्वारा निम्नलिखित

    क्लिक करें=>सत्य नेटवर्क (REAL NETWORK) उपलब्ध हैं।

    क्लिक करें=>01. डिजिटल ग्राम नेटवर्क (Digital Village Network)

    क्लिक करें=>02. डिजिटल नगर वार्ड नेटवर्क (Digital City Ward Network)

    क्लिक करें=>03. डिजिटल एन.जी.ओ/ट्रस्ट नेटवर्क (Digital NGO/Trust Network)

    क्लिक करें=>04. डिजिटल विश्वमानक मानव नेटवर्क (Digital World Standard Human Network)

    क्लिक करें=>05. डिजिटल नेतृत्व नेटवर्क (Digital Leader Network)

    क्लिक करें=>06. डिजिटल जर्नलिस्ट नेटवर्क (Digital Journalist Network)

    क्लिक करें=>07. डिजिटल शिक्षक नेटवर्क (Digital Teacher Network)

    क्लिक करें=>08. डिजिटल शैक्षिक संस्थान नेटवर्क (Digital Educational Institute Network)

    क्लिक करें=>09. डिजिटल लेखक-ग्रन्थकार-रचयिता नेटवर्क (Digital Author Network)

    क्लिक करें=>10. डिजिटल गायक नेटवर्क (Digital Singer Network)

    क्लिक करें=>11. डिजिटल खिलाड़ी नेटवर्क (Digital Sports Man Network)

    क्लिक करें=>12. डिजिटल पुस्तक विक्रेता नेटवर्क (Digital Book Vendor Network)

    क्लिक करें=>13. डिजिटल होटल और आहार गृह नेटवर्क (Digital Hotel & Restaurant Network)

     

    नेटवर्क में शामिल होने के लिए अपने नजदीकी

    1. मण्डल प्रेरक (Division Catalyst - Dv.C) 

    2. जिला प्रेरक (District Catalyst - Dt.C)

    3. विश्वशास्त्र मन्दिर (Vishwshastra Temple - V.T)

    4. ब्राण्ड फ्रैन्चाइजी (Brand Franchisee - B.F)

    5. डाक क्षेत्र प्रवेश केन्द्र (Postal area Admission Center - PAC)

    6. ग्राम/नगर वार्ड प्रेरक (Village/City ward Catalyst - V.C)

    से 

    या

    सत्य नेटवर्क (REAL NETWORK) में शामिल किसी व्यक्ति 

    या 

    नेटवर्क संचालक 

    से सम्पर्क करें।

    “मनुष्य, अपने कर्मो का फल तुरन्त या इसी जीवन में चाहता है। अवतार, संत, महापुरूष गण प्रेरणा प्रदान करने के लिए अनेक कर्म उत्पन्न कर देते हैं। उसमें से एकाध कर्म स्वयं के लिए रखते हैं क्योंकि जीवन के समय को व्यतीत करने के लिए कुछ कर्म चाहिए होते हैं। कर्म किये बिना कोई रह नहीं सकता, ये श्रीकृष्ण की वाणी है। अप्रत्यक्ष कर्म (प्रेरणा या मार्गदर्शन) अन्य जिनके लिए उपयोगी हो, उनके लिए होता है। वो उसे करें ना करें अवतार, संत, महापुरूष गण को कोई मतलब नहीं होता। जिस प्रकार सूर्य के प्रकाश के भिन्न-भिन्न उपयोग है उसी प्रकार शास्त्र के भी भिन्न-भिन्न उपयोग होते हैं। कोई राजनीति करता है, कोई ज्ञानी बनता है, कोई समाज निर्माण करता है, कोई पुनः व्याख्या कर गुरू बन जाता है। और इन सबसे शास्त्राकार को कोई मतलब नहीं होता जिस प्रकार सूर्य के प्रकाश का उपयोग कर लेने से सूर्य को कोई मतलब नहीं होता। पूर्ण प्रत्यक्ष अवतार से पूर्ण प्रेरक अवतार तक की यात्रा यही समाप्त होती है।” - अनिर्वचनीय कल्कि महाअवतार लव कुश सिंह ”विश्वमानव“

.......