SUMMARY- Creator's Life

  • Click here => for INDEX of this section
  • RENEW HUMAN           RENEW INDIA                RENEW WORLD

     भारत सरकार के साथ लेकिन सरकार की सोच से हमेशा आगे

    आध्यात्मिक एवं दार्शनिक विरासत के आधार पर एक भारत-श्रेष्ठ भारत निर्माण,

     

    पूर्ण मानव निर्माण व भारत को जगत गुरू बनाने की योजना है - पुनर्निर्माण

    कर्म के तीन कुल तीन ही मार्ग हैं-
    1. प्रमुखता से शरीर के प्रयोग द्वारा
    2. प्रमुखता से संसाधन/धन के प्रयोग द्वारा
    3. प्रमुखता से मानसिक/ज्ञान के प्रयोग द्वारा

    विश्वशास्त्र - द नॅालेज अॅाफ फाइनल नॅालेज

    कर्म के प्रमुखता से मानसिक/ज्ञान के प्रयोग का परिणाम है।

    राष्ट्र निर्माण का व्यापार - पुनर्निर्माण 

    द्वारा निम्नलिखित

    क्लिक करें=>सत्य नेटवर्क (REAL NETWORK) उपलब्ध हैं।

    क्लिक करें=>01. डिजिटल ग्राम नेटवर्क (Digital Village Network)

    क्लिक करें=>02. डिजिटल नगर वार्ड नेटवर्क (Digital City Ward Network)

    क्लिक करें=>03. डिजिटल एन.जी.ओ/ट्रस्ट नेटवर्क (Digital NGO/Trust Network)

    क्लिक करें=>04. डिजिटल विश्वमानक मानव नेटवर्क (Digital World Standard Human Network)

    क्लिक करें=>05. डिजिटल नेतृत्व नेटवर्क (Digital Leader Network)

    क्लिक करें=>06. डिजिटल जर्नलिस्ट नेटवर्क (Digital Journalist Network)

    क्लिक करें=>07. डिजिटल शिक्षक नेटवर्क (Digital Teacher Network)

    क्लिक करें=>08. डिजिटल शैक्षिक संस्थान नेटवर्क (Digital Educational Institute Network)

    क्लिक करें=>09. डिजिटल लेखक-ग्रन्थकार-रचयिता नेटवर्क (Digital Author Network)

    क्लिक करें=>10. डिजिटल गायक नेटवर्क (Digital Singer Network)

    क्लिक करें=>11. डिजिटल खिलाड़ी नेटवर्क (Digital Sports Man Network)

    क्लिक करें=>12. डिजिटल पुस्तक विक्रेता नेटवर्क (Digital Book Vendor Network)

    क्लिक करें=>13. डिजिटल होटल और आहार गृह नेटवर्क (Digital Hotel & Restaurant Network)

     

    नेटवर्क में शामिल होने के लिए अपने नजदीकी

    1. मण्डल प्रेरक (Division Catalyst - Dv.C) 

    2. जिला प्रेरक (District Catalyst - Dt.C)

    3. विश्वशास्त्र मन्दिर (Vishwshastra Temple - V.T)

    4. ब्राण्ड फ्रैन्चाइजी (Brand Franchisee - B.F)

    5. डाक क्षेत्र प्रवेश केन्द्र (Postal area Admission Center - PAC)

    6. ग्राम/नगर वार्ड प्रेरक (Village/City ward Catalyst - V.C)

    से 

    या

    सत्य नेटवर्क (REAL NETWORK) में शामिल किसी व्यक्ति 

    या 

    नेटवर्क संचालक 

    से सम्पर्क करें।

    “मनुष्य, अपने कर्मो का फल तुरन्त या इसी जीवन में चाहता है। अवतार, संत, महापुरूष गण प्रेरणा प्रदान करने के लिए अनेक कर्म उत्पन्न कर देते हैं। उसमें से एकाध कर्म स्वयं के लिए रखते हैं क्योंकि जीवन के समय को व्यतीत करने के लिए कुछ कर्म चाहिए होते हैं। कर्म किये बिना कोई रह नहीं सकता, ये श्रीकृष्ण की वाणी है। अप्रत्यक्ष कर्म (प्रेरणा या मार्गदर्शन) अन्य जिनके लिए उपयोगी हो, उनके लिए होता है। वो उसे करें ना करें अवतार, संत, महापुरूष गण को कोई मतलब नहीं होता। जिस प्रकार सूर्य के प्रकाश के भिन्न-भिन्न उपयोग है उसी प्रकार शास्त्र के भी भिन्न-भिन्न उपयोग होते हैं। कोई राजनीति करता है, कोई ज्ञानी बनता है, कोई समाज निर्माण करता है, कोई पुनः व्याख्या कर गुरू बन जाता है। और इन सबसे शास्त्राकार को कोई मतलब नहीं होता जिस प्रकार सूर्य के प्रकाश का उपयोग कर लेने से सूर्य को कोई मतलब नहीं होता। पूर्ण प्रत्यक्ष अवतार से पूर्ण प्रेरक अवतार तक की यात्रा यही समाप्त होती है।” - अनिर्वचनीय कल्कि महाअवतार लव कुश सिंह ”विश्वमानव“

  • Click here => एक ही मानव शरीर के जीवन, ज्ञान और कर्म के विभिन्न विषय क्षेत्र से मुख्य नाम (सर्वोच्च, अन्तिम और दृश्य)
  •  

    एक ही मानव शरीर के जीवन, ज्ञान और कर्म के विभिन्न विषय क्षेत्र से मुख्य नाम

     (सर्वोच्च, अन्तिम और दृश्य)

    क्र.सं. विषय क्षेत्र सम्बन्धित क्षेत्र से मुख्य नाम
    01 विश्व क्षेत्र

    विश्व संविधान/साहित्य/विचार/सिद्धान्त/प्रबन्ध/दर्शन/मत/मानव/एकता/शान्ति/विकास/स्थिरता/आत्मा/अभिनेता/बुद्धि/राजनीति/क्रांति

    02 राज्य क्षेत्र विश्व (राष्ट्र) ऐजेण्डा-2012+ (WORLD NATION AGENDA-2012+) विश्व व्यवस्था का अधिकतम एवं न्यूनतम साझा कार्यक्रम
    03 समाज क्षेत्र लोक/गण/जन ऐजेण्डा-2012+ (PUBLIC AGENDA-2000+)
    04 धर्म क्षेत्र वेदान्त धर्म स्थापना
    05 साहित्य क्षेत्र विश्व साहित्य-”विश्वभारत“ समाहित ”विश्वशास्त्र“ साहित्य- आदर्श वैश्विक व्यक्ति चरित्र कथा साहित्य
    06 सामाज शास्त्र मानक/जन/गण/लोक शास्त्र
    07 धर्मशास्त्र

    धर्मयुक्त नाम - कर्मवेदः प्रथम, अन्तिम और पंचम वेद और आधारित उपनिषद् (व्यष्टि एवं समष्टि)

    सर्वधर्मसमभाव / धर्मनिरपेक्ष नाम - मन की गुणवत्ता का विश्व मानक: शून्य श्रृंखला (व्यष्टि एवं समष्टि)

    08 मानक क्षेत्र मन की गुणवत्ता का विश्व मानक: शून्य श्रृंखला
    09 अदृश्य विज्ञान  दृश्य आध्यात्म विज्ञान
    10 दृश्य विज्ञान धर्म विज्ञान या एकात्म विज्ञान (Integration Science)
    11 इंजीनियरिंग सत्य सामाजिक अभियंत्रण (Real Social Engineering)
    12 तकनीकी सत्य सामाजिक तकनीकी (Real Social Technology) : WCM-TLM-SHYAM.C Technology
    13 संविधान विवादमुक्त तन्त्रों पर आधारित संविधान
    14 राजनीति सत्य राजनीति/राजनीति-2012+ (POLITICS-2012+)
    15 संगठन विश्व राजनीतिक पार्टी संघ (World Political Party Organisation- WPPO)
    16 शिक्षा  पूर्णज्ञान/पूर्ण शिक्षा प्रणाली/शिक्षा - 2012+ (EDUCATION-2012+)
    17 राष्ट्र सम्बन्ध आदर्श राष्ट्रीय नागरिक
    18 वेदान्त कर्म वेदान्त: वेदान्त की अन्तिम शाखा
    19 मतवाद एकात्म कर्मवाद: एकात्म मानवतावाद का व्यावहारिक रुप
    20 दार्शनिक विकास दर्शन (Development Philosophy)
    21 क्रांति संपूर्ण क्रांति (Complete Revolution) : प्रलय, स्थिति एवं सृष्टि
    22 सांस्कृतिक भोगेश्वरः भोग (पाश्चात्य) + ईश्वर (प्राच्य) = एकात्म या ईश्वरत्व भाव से भोग
    23 मन विश्व मन (WOLD MIND)
    24 मानव विश्वमानव (विश्वमन से युक्त)

     

    25 मनु 8वें मनु - सांवर्णि मनु
    26 अवतार भगवान विष्णु के दसवें और अन्तिम तथा भगवान शंकर के बाईसवें और अन्तिम संयुक्तावतार (निष्कलंक कल्कि एवं भोगेश्वर)
    27 निराकार ब्रह्म सार्वभौम सत्य-सिद्धान्त (UNIVERSAL TRUTH-THEORY) : विश्व-बन्धुत्व का सिद्धान्त
    28 साकार ब्रह्म लव कुश सिंह
    29 पुनर्जन्म-सत् मार्ग से बुड्ढा कृष्ण (कृष्ण भाग - 2 और अन्तिम) - कृष्ण की अगली और अन्तिम कड़ी 
    30 पुनर्जन्म-रज मार्ग से स्वामी विवेकानन्द का पुनर्जन्म
    31 पुनर्जन्म-तम मार्ग से रावण की अगली कड़ी
    32 आत्मा दृश्य विश्वात्मा/ शिव/ ब्रह्म/ मैं
    33 अभिनय वास्तविक जीवन का अभिनेता (Real Life Actor)
    34 बम ज्ञान बम - आध्यात्मिक न्यूट्रान बम
    35 अस्त्र अनियन्त्रित पशुपास्त्र (नारायणास्त्र या सु-दर्शन चक्र व ब्रह्मास्त्र समाहित)
    36 माया योग माया समाहित भोगमाया
    37 ज्ञान एकात्म कर्मज्ञान (शास्वत): व्यष्टि एवं समष्टि
    38 बुद्धि विश्व बुद्धि व चेतना या सत्य चेतना: पूर्व व्यक्त सत्य चेतना
    39 ध्यान व योग दृश्य सत्य-क्रियाकलाप-एकात्म योग व ध्यान (अन्तिम योग व अन्तिम ध्यान)
    40  मिशन

    प्राकृतिक सत्य मिशन (Natural Truth Mission) - सर्वोच्च और अन्तिम मिशन

    41 धार्मिक नगर एकात्म काशी- जीवनदायिनी सत्यकाशी: पंचम, अन्तिम तथा सप्तम काशी
    42 शक्ति आत्मशक्ति (SPIRIT POWER), मस्तिष्क शक्ति (BRAIN POWER), मन शक्ति (MIND POWER), सत्य शक्ति (TRUTH POWER)
    43 जीवन कथा विश्वमानव लीला/दर्पण: दो विपरीत दिशाओं के साथ प्रथम एवं अन्तिम कथा
    44 प्रेम और कर्म शास्वत प्रेम और कर्म 
    45 समन्वय अन्तिम समन्वय-सिद्धान्त
    46 आचार्य अन्तिम समन्वयाचार्य
    47 कला विश्वमानव कला (कृष्ण कला समाहित)
    48 परिचालन प्रणाली अवतार का परिचालन प्रणाली: मानव-10 (Avatar’s Operating System : Human-10)

     

.......